मोदी सरकार रिटर्न्स : जबरदस्त समर्थन के बाद जनता की अपेक्षाए बहुत ज्यदा हैं, हार से बौखलाए विपक्ष के बीच क्या होंगी मोदी की प्रथमिकताये

0
255
views
बिभिन्न चैनेलो पर exit पोल संख्या को बढ़ा कर भले ही दिखा रहे हो लेकिन एक बात तो तय है कि प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी लोगो की अभी भी पहली ही पसंद है I और २३ मई को जब रिजल्ट आएगा तो इस सरकार को मोदी सरकार रिटर्न्स कहा जाएगा I मोदी को दूसरा कार्यकाल इस बात का भी परिचायक है की जनता श्री राम मंदिर,पाकिस्तान, 35A और ३७० के लिए मोदी को एक और मौका दे रही है I और इन्ही मुद्दों पर अब तक रही टाल मटोल को ख़तम कर आगे बढ़ना प्रधान मंत्री मोदी के लिए ज़रूरी होगा I प्रधान मंत्री को इस बार पिछली सरकार में हमें ये मिला जैसे जुमलो से भी बाहर आना पड़ेगा क्योंकि अब वो मोदी सरकार रिटर्न्स के नायक हैं और बीते ५ साल उन्ही की सरकार थी I

प्रधानमन्त्री मोदी के सामने सबसे बड़ा चैलेन्ज पुराने इस बार चुनाव ना लड़कर राजनीती छोड़ चुके अपने विश्वसनीय साथी सुषमा स्वराज, सुमित्रा ताई, मुरली मनोहर जोशी आदि के विकल्प बनाना भी होगा Iभाजपा में कद्दावर राजनाथ सिंह को संतुष्ट करना भी उनके लिए कम चुनोती भरा नहीं होगा I राजनाथ सिंह पहले भी गृहमंत्री होते हुए कई बार संगठन में जाने की बात कह कर उन पर दबाब बनाते रहे है

ऐसे में स्मृति इरानी, नितिन गडकरी , अरुण जेटली जैसे पुराने विश्वसनीय चेहरों के साथ नयी सरकार में कौन कौन आगे आएगा कौन मोदी के साथ चल पायेगा ये भाजपा के लिए सोचनीय होगा

प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के इस बार नितीश कुमार , उद्धव आकरे , राम विलास पासवान जैसे सहयोगियों को साधे रखना भी कम चुनोती पूर्ण नहीं होगा I नितीश कुमार जहाँ पहले ही श्री राम मंदिर , 35A और ३७० पर बीजेपी से सहमत नहीं होने की बात कह चुके हैं तो राम विलास पासवान प्राइवेट कम्पनियों में आरक्षण की मांग कर चुके है

वही शिवसेना श्री राम मंदिर के मुद्दे पर भाजपा पर दबाब बनाने की रणनीति पर काम करेगी I
देश के लिए मोदी की प्रथमिकताये सबसे पहले बेरोजगारी से निबटना होगा I करारी हाल से घायल विपक्ष नयी सरकार को हनीमून पीरियड का समय नहीं देगा I
कानून वयवस्था पर पश्चिम बंगाल और कश्मीर में राष्ट्रपति शासन भी प्रधानमन्त्री मोदी के लिए सबसे बड़ा चैलेन्ज होगा I दीदी ताना शाह है हमारे कार्यकर्ताओं को मार रही है जैसे जुमले कह कर आँख मूँद लेना भी समाधान नहीं होगा I
मोदी सरकार रिटर्न्स में जबरदस्त समर्थन के बाद जनता की अपेक्षाए बहुत ज्यदा हैं जो अगले ही महीने से फलीभूत होनी शुरू नहीं हुई तो UPA2 की तरह फिर से जनता मायूस होना शुरू कर देगी I
आशु भटनागर
लेख में दिये विचार लेखक है उनसे कालिदास क्लब का सहमत होना आवश्यक नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

"कालिदास क्लब  "पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से "कालिदास क्लब के संचालन में योगदान दें।