तो क्या भाजपा के अगले बागी बनेंगे डॉ मुरली मनोहर जोशी ? – आकाश नागर

0
68
views

कानपुर से जो छन-छन कर खबरें आ रही है उनके अनुसार यहां के सांसद और भाजपा के दिग्गज नेता डॉ मुरली मनोहर जोशी का पार्टी से बगावत करना तय है । इसका कारण उनका आगामी 2019 में कानपुर संसदीय सीट से टिकट काटा जाना है । उनका एज फैक्टर फिलहाल आडे आ रहा है । भाजपा द्वारा तय किए गये उम्र के मानक को पार करने वाले डॉ मुरली मनोहर जोशी कभी भारतीय जनता पार्टी के अग्रिम पंक्ति के नेता हुआ करते थे । लेकिन आज वह हासिए पर डाल दिए गए हैं । 2014 में उन्हें कानपुर से भाजपा ने टिकट दिया तो वह जीत गए थे ।

लेकिन 2019 में भाजपा ने उन्हें बाय बाय कहने की तैयारी कर ली है । देश में भाजपा के 28 नेताओं के टिकट कटने की चर्चा है । जिसमें डॉ मुरली मनोहर जोशी पहले नंबर पर है । लेकिन इस सब को अंगूठा दिखाते हुए जोशी ने आगामी 2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सक्रियता तेज कर दी है । जोशी ने पार्टी फॉर्म के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया है । उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा है कि वह 2019 का चुनाव कानपुर से लड़ेंगे । हालांकि उनके इस दावे को भाजपा गंभीरता से नहीं ले रही है । कहा जा रहा है कि डॉ मुरली मनोहर जोशी कानपुर से अपने किसी पसंदीदा उम्मीदवार को टिकट देने के लिए पार्टी पर दबाव बना रहे हैं ।

लेकिन वहीं दूसरी तरफ उनका उत्तराखंड में देहरादून आगमन भी चर्चा में बना हुआ है । पिछले दिनों वह दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर देहरादून पहुंचे । इसके अलावा उन्होंने उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी में अटल बिहारी वाजपेई की याद में कवि सम्मेलन में भी बतौर मुख्य अतिथि भाग लिया । उत्तराखंड मूल के डॉ मुरली मनोहर जोशी की देहरादून में सक्रियता के भी मायने तलाश किए जा रहे हैं । कयास लगाए जा रहे है कि अंतिम समय पर अगर डॉ मुरली मनोहर जोशी कानपुर से ही चुनाव लड़ने के लिए अड़े रहे तो उन्हें उत्तराखंड से किसी सीट से चुनाव लड़ने को भी कहा जा सकता है ।

लेकिन जिस तरीके से भाजपा की आंतरिक राजनीति चल रही है उससे तो यही लग रहा है कि भाजपा के इस खांटी नेता को वृद्ध का लवादा उढाकर राजनीति में साइड किया जा रहा है । इसके चलते ही वह ना घर ( उत्तराखंड ) ना घाट ( उत्तर प्रदेश ) के रहने वाले हैं । अब लगता है कि लालकृष्ण आडवाणी जी की तरह डॉ मुरली मनोहर जोशी जी के भी दिन लदने वाले हैं..

आकाश नागर पत्रकार है, और ये पोस्ट उनके फेसबुक से लिया गया है 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

"कालिदास क्लब  "पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से "कालिदास क्लब के संचालन में योगदान दें।