इस ईद पर दुखी वो सत्ता के लालची गिद्ध हैं जो 370 हटने के बाद कश्मीर में मौतों का इंतज़ार कर रहे हैं – नीरज बधवार

0
62
views

हिंदुस्तान से लेकर पाकिस्तान तक जिन लोगों को कश्मीरियों की सबसे ज़्यादा फिक्र है वही लोग इस बात को लेकर सबसे ज़्यादा परेशान हैं कि कश्मीर में अभी तक कोई बड़ी हिंसा क्यों नहीं हुई! हिंसा देखने की इनकी बेचैनी इतनी है कि कोई हिंसा के पुराने वीडियो शेयर कर रहा है। कोई एक जगह हुई छिटपुट हिंसा को पूरे कश्मीर का माहौल बता रहा है। कोई विदेशी अख़बार या साइट का फर्जी लिंक शेयर कर अपनी प्यास बुझा रहा है। मगर ऐसा सोचने और करने के पीछे दोनों पक्षों की अपनी-अपनी मजबूरियां हैं।

पाकिस्तान को भी पता है सीधी लड़ाई वो हमसे लड़ नहीं सकता। यूएन में जाने से कुछ होगा नहीं। चीन से लेकर मलेशिया तक, सऊदी अरब से लेकर तुर्की तक हर किसी के भारत के साथ ऐसे व्यापारिक रिशते जुड़े हैं कि कोई भी कश्मीर के फटे में टांग अड़ाकर भारत को नाराज़ नहीं करना करेगा।

पाकिस्तान के मुकाबले भारत से होने वाले उनके सालाना कारोबार का फर्क इतना ज़्यादा है कि मुसलिम ब्रदरहुड जैसी कोई भावनात्मक दलील भी काम नहीं करेगी। क्योंकि शाहरुख की तरह उन सबकी अमी जां भी उन्हें बचपन में समझा गईं थी कि धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता।

और यही पाकिस्तान की असली तड़प है। उसकी तिलमिलाहट है। आज से पहले तो वो अपने यहां के जिहादी संगठनों के रास्ते कश्मीर में हिंसा भड़काकर माहौल गर्माए रखता था। लेकिन FATF की ग्रे लिस्ट में आने के बाद पाकिस्तान को मजबूरन इन तंजीमों पर कार्रवाई करनी पड़ी। उसे डर है कि उसने इन संगठनों को फिर से सक्रिय किया तो उसे ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जाएगा। जिसके बाद उसे आईएमएफ से कोई कर्ज़ नहीं मिलेगा। इससे पहले कि वो तालीबान और अमेरिका की बातचीत के एवज में Blackmailing की सोचता खुद तालिबान ने उसे चेता दिया है कि वो कश्मीर के मसले को इस बातचीत से न जोड़े। जिसके बाद ये विकल्प भी उसके हाथ से निकल गया।

इस सबके बाद पाकिस्तान के पास अपनी खिसियाहट मिटाने का कोई रास्ता नहीं बचता। अब वो सिर्फ ये आस लगाए बैठा है कि पूरी तरह से कर्फ्यू हटने के बाद हज़ारों कश्मीरी सड़कों पर आएं। उन्हें काबू करने की कोशिश में कुछ सौ लोग मारे जाएँ। जिसके बाद दुनियाभर में इसकी चर्चा हो और विश्व बिरादरी को मजबूरन भारत पर दबाव बनाना पड़े।

मतलब कश्मीर पर अपना कुंठा का उसे आखिरी हल ये दिखता है कि कश्मीर में कुछ सौ लोग मारे जाएं। जिस कश्मीर को वो अपनी शाह रग बताता है वो उन्हीं कश्मीरियों के जनाजे में वो अपनी ज़िंदगी ढूंढ रहा है। तभी आप देखिए पाकिस्तान से लेकर हिंदुस्तान में ये लोग तड़प रहे हैं कि कश्मीर में अभी तक मौतें क्यों नहीं हुई।

और अब बात इस तरफ के लोगों की। आपको याद है अभिनन्दन के पाकिस्तान के कब्ज़े में जाने के फौरन बाद अरविंद केजरीवाल ने बयान दिया था कि मोदी जी 300 सीटें लानें के लिए और कितने लोगों को मरवाओगे। ऐसा नहीं था कि केजरीवाल को वहां फंसे अभिनन्दन की कोई बड़ी फिक्र हो रही थी। दरअसल बालाकोट की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद मोदी सरकार के पक्ष में हवा बन गई थी जैसी अभी बनी हुई है। और सारा विपक्ष इस एक ताक में बैठा था कि अभी कुछ उल्टा-सीधा हो और उसे लेकर सरकार क घेरा जाए।

यही लोग अब नोटबंदी के बाद कुछ उल्टा-सीधा होने का इंतज़ार कर रहे थे। हैजे से हुई मौत को भी नोटबंदी की वजह से हुई मौत बताया जा रहा था। पीलिया से हुई मौत को भी जीएसटी के दुष्प्रभाव से जोड़ा जा रहा था। और जनता के यही हमदर्द, सत्ता के लालची गिद्ध 370 हटने के बाद आज फिर से लोगों की मौत का इंतज़ार कर रहे है। मतलब कुछ भी ऐसा बड़ा (जिससे जनता खुश हो ) होने के बाद ये लोग हादसे का इंतज़ार करने लगते हैं। अपने ही लोगों की मौत दुआ मांगने लगते हैं।

और एक हफ्ते बाद भी कश्मीर से ऐसी ख़बर न आने पर इनकी बेचैनी बढ़ती जा रही है। बिना मामले की संवेदनशनीलता को समझे ये लोग तुरंत प्रभाव से कर्फ्यू हटाने की बात कर रहे हैं। इनका दर्द कर्फ्यू के चलते लोगों को हो रही दिक्कत नहीं, बल्कि उसके चलते वहां बनी हुई शांति है। इन्हें लाशें देखने की जल्दी है क्योंकि उन लाशों को दिखाकर सरकार को शर्मिंदा करना है। इन्हें खून देखना है क्योंकि उस खून से इन्हें अपनी सत्ता की प्यास बुझानी है। इन्हें मौतें देखनी है क्योंकि उन मौतों से अपनी नफरत और राजनीति को ज़िंदा रखना है। कश्मीर की शांति इनके कानों में शोर की तरह सुनाई दे रही है। और ये शोर हर बीतते दिन के साथ घनघोर होता जा रहा है। बस यही दिक्कत है।

नीरज बधवार के फेसबुक वाल से 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

"कालिदास क्लब  "पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से "कालिदास क्लब के संचालन में योगदान दें।