बिहार की आन बाण शान वाले बडबोले शत्रुघ्न सिन्हा उत्तर भारतीयों पर गुजरात में हमले कराने वाले अल्पेश ठाकोर पर चुप क्यूँ है ? – आशु भटनागर

0
283
views

आशु भटनागर I गुजरात में उत्तर भारतीयों को लोग मार पीट रहे है , वहां के मकान मालिक रात में ही यूपी, बिहार के लोगो को मकान खाली कर देने को बोल रहे है I रातो रात प्रवासी उत्तर भारतीयों को गुजरात से अपना जमा जमाया काम छोड़ कर जाने पर मजबूर होना पढ़ रहा है I

शुरू में तो इस सब पर कुछ समझ नहीं आ रहा था लेकिन जैसे जैसे स्थिति साफ़ होनी शुरू हुई इसके पीछे भिहार कांग्रेस प्रभारी और गुजरात के विधायक अल्पेश ठाकुर और उनकी सेना के लोगो के होने के साबुत सामने आने लगे I पत्रकार अभिषेक पराशर फेसबुकपर  लिखते है

गुजरात में बिहारवासियों और यूपी के लोगों पर हो रहे हमले के पीछे ओबीसी समुदाय के कांग्रेसी नेता अल्पेश ठाकोर का ”हाथ” है. लिजलिजे से दिखने वाले ठाकोर की एक ”सेना” भी है और कांग्रेस ने इस व्यक्ति को बिहार कांग्रेस का प्रभारी भी बना रखा है. राहुल गांधी की मौजूदगी में इसने कांग्रेस ज्वाइन किया था. Indian National Congress Rahul Gandhi ऐसे आरोपी कैसे कांग्रेस की राजनीति में फिट बैठते हैं?

ऐसे में अब सवाल उठाता है की सिर्फ बीजेपी के विरोध में जिग्नेश , कन्हिया या अल्पेश ठाकोर को राजनीती में शुभकामनाये देने वाले बिहार के बडबोले राजनेता आखिर उत्तर भारतीयों के साथ हो रहे इस अमानवीय वयवहार पर खामोश क्यूँ है ?

बिहार की राजनीती में बिहार कांग्रेस के प्रभारी अल्पेश ठाकोर की इस दोहरी राजनीती पर , बिहार के महत्वपूर्ण कारक शत्रुघ्न सिन्हा की आवाज़ जनता को क्यूँ नहीं सुनाई दे रही है

आखिर वो कौन सी राजनैतिक मज़बूरी है जो उनको उत्तर भारतीयों के अपमाना पर बोलने से रोक रही है , खुद को बिहार की आन बाण शान कहलवाने वाले शाटगन सिन्हा की बस नाम के लिए ही दबंग सिन्हा है I आखिर प्रवासी उत्तर भारतीयों के गुजरात में उत्पीडन का मुद्दा कौन उठायेगा

हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने वाले  शाटगन सिन्हा ने पिछले ४८ घंटे में इस मुद्दे पर कोई ट्वीट तक करने की जेहमत नहीं उठाई है , क्या शत्रुघ्न सिन्हा की राजनीती सिर्फ अपने स्वार्थ तक ही  है आखिर सिन्हा कब समाज के लिये  राजनीती  करना शुरू करेंगे ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

"कालिदास क्लब  "पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से "कालिदास क्लब के संचालन में योगदान दें।