अंकित सक्सेना को क्या मिलेगा इंसाफ?- रोहित श्रीवास्तव

1
165
views

रोहित श्रीवास्तव I दिल्ली एक बार फिर से निर्मम हत्या के लिए सुर्खियों में है। मामला है 23 वर्षीय अंकित सक्सेना की जघन्य हत्या का, जहां हैवानियत की बर्बरता ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है। अंकित की ग़लती महज इतनी थी कि उसने दूसरे धर्म की लड़की से प्रेम किया था। इसी प्रेम के कारण हैवानों ने एक फूल जैसे लड़के को कुचल कर मार डाला, उसका गला रेत दिया गया।

गौरतलब है कि अंकित ने जिस लड़की से प्रेम किया था वो मुस्लिम थी। उसी के घर वालों ने अपनी झूठी शान-शौकत के लिए उसका बेरहमी से गला काट दिया। सोचिए, उस मां के दिल पर क्या बीत रही होगी जिसके फूल जैसे बच्चे को बड़ी हैवानियत के साथ मौत के घाट उतार दिया। आखिर इस मजहबी रंजिस ने एक युवा की ज़िंदगी ले ली। इसका जिम्मेदार कौन है?

सोचने वाली बात है कि आखिर दो अलग धर्म के लोग प्रेम नही कर सकते, शादी नही कर सकते। ऐसा तो नही है कि यह पहली बार होने जा रहा था। हमारे पास हजारों ऐसे उदाहरण हैं जहां दो विभिन्न धर्म के लोगों ने एक-दूसरे का हाथ थामा है। सब अपनी अच्छी-खासी जिंदगी जी रहे हैं। क्या ऐसा नही हो सकता था कि दोंनो परिवार आपस मे बैठकर सोच-समझ कर बीच का रास्ता निकालते, यह संविधान की किताब में कहाँ लिखा है कि आप दो प्रेम करने वालों के साथ ऐसा दुर्व्यवहार करें। इस पूरी घटना ने हमारे तथाकथित सभ्य समाज को आइना तो दिखाया ही है साथ मे एक ऐसे भय को जन्म दिया है जिससे दो विभिन्न धर्म के प्रेमियों की रूह कांप सकती है। अंतिम में बस इतना कहना चाहूंगा कि ऐसी घटनाओं को संज्ञान लेते हुए हमें एक ऐसे समाज का निर्माण करना होगा जहां ऐसी घटनाओं के लिए कोई जगह न हो।

लेखक स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक विश्लेषक है 

1 COMMENT

  1. अब अवार्ड वापसी गैंग कहाँ गया ।क्या उसे यह सामाजिक सदभाव टपकता हुआ दिख रहा है।और समाज के ठेकेदार भी नही दिखाई पड़ रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here